आधी छोड़ सारी को धावे, आधी रहे न सारी पावे का अर्थ

(A) अधिक लालच से अच्छा जो मिले उसी में संतुष्ट होना
(B) एक के कारण सभी का बदनाम होना
(C) अधिक लालच से अच्छा जो मिले उसी में संतुष्ट होना
(D) इनमें से कोई नहीं

Answer : अधिक लालच से अच्छा जो मिले उसी में संतुष्ट होना
Explanation आधी छोड़ सारी को धावे, आधी रहे न सारी पावे (Aadhi Chhod Sari Ko Dhave, Aadhi Rahe Na Sari Pave) मुहावरे का अर्थ–'अधिक लालच से अच्छा जो मिले उसी में संतुष्ट होना' होता है। मुहावरे का अर्थ–'अधिक लालच अच्छा नहीं होता। जो मिले उसी में संतुष्ट होना चाहिए' होता है। आधी छोड़ सारी को धावे, आधी रहे न सारी पावेका वाक्य प्रयोग – मैं बड़े चैन से अपनी परचून की दुकान से दाल-रोटी कमा लेता था। एक रिश्तेदार के कहने से उसे बेचकर व्यापार करने बंबई चला आया। यहां पैर जमाना भी मुश्किल हो रहा है। अब मैं समझ गया हूं कि आधी छोड़ सारी को धावे, आधी रहे न सारी पावे। मुहावरा का अर्थ किसी भाषा समृद्धि और उसकी अभिव्यक्ति क्षमता का विकास होता है। मुहावरों एवं कहावतों के प्रयोग से भाषा में सजीवता और प्रवाहमयता आ जाती है। सरल शब्दों में मुहावरे लोक सानस की चिरसंचित अनुभूतियां हैं। मुहावरा शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है 'अभ्यास होना' या ‘आदी होना' और यह भाषा के प्राण हैं।
Tags : मुहावरे, सामान्य हिन्दी प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Aadhi Chhod Sari Ko Dhave Aadhi Rahe Na Sari Pave