अहमदनगर के निजामशाही वंश का अंत कैसे हुआ?

(A) अहमदनगर को मुगल साम्राज्य में मिलाकर हुसैन शाह को आजीवन कारावास दिया गया
(B) मुगल सेना ने दौलताबाद किला ध्वस्त कर दिया और अहमदनगर के निजाम-उल-मुल्क की हत्या कर दी
(C) फतेह खान ने निजाम-उल-मुल्क कीराजगद्दी छीन ली
(D) 1631 ई. में मुगलों के साथ युद्ध में मलिक अम्बर पराजित हुआ और सम्पूर्ण राज परिवार मुगल सेना द्वारा मार दिया गया

Answer : अहमदनगर को मुगल साम्राज्य में मिलाकर हुसैन शाह को आजीवन कारावास दिया गया
Explanation : निजामशाही वंश के मलिक अहमद ने 1450 ई. में स्वतंत्र अहमदनगर राज्य की स्थापना की थी। 1494 ई. में मलिक अहमद ने अहमदनगर शहर की स्थापना कर उसे अपनी राजधानी बनाया। 1510 ई. में मलिक अहमद की मृत्यु हो गई। इस वंश के अन्य प्रमुख शासक बुरहान निजामशाह प्रथम, हुसैन निजामशाह प्रथम, मुर्तजा निजामशाह प्रथम और हुसैन निजामशाह तृतीय थे। मुगल सम्राट शाहजहां ने इसे अंतिम रूप से 1636 ई. में मुगल साम्राज्य में मिला लिया।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Ahmednagar Ke Nizamshahi Vansh Ka Ant Kaise Hua