अकबर के शासनकाल में सबसे बड़ी स्वर्ण मुद्रा कौन सी थी?

(A) इलाही
(B) जलाली
(C) संशब
(D) अशरफी

Question Asked : [Uttarakhand PCS (Pre) GS 2016]
Answer : संशब
अकबर ने 1575 ई. में इबादत खाना का निर्माण कराया था। वस्तुत: 1575 ई. तक अकबर सुत्री धर्म के बाहरी रूपों को मानता रहा। इसी समय उसका संपर्क शेख मुबारक तथा उसके पुत्रों फैजी व अबुल फजल ने हुआ, जिसके उसके विचारों में परिवर्तन आ गया। तब उसने दार्शनिक एवं धर्मशास्त्रीय प्रश्नों पर वाद-विवाद हेतु फतेहपुरी सीकरी में इबादत खाना का निर्माण कराया। इसमें बादशाह की अध्यक्षता में सैय्यद शेख व उलेमा धार्मिक चर्चा किया करते थे। अक्टूबर 1578 ई में अकबर ने सभ धर्मावलंबियों के लिए 'इबादत खाना' का द्वार खोल दिया। फलत: अब हिंदू, जैन, ईसाई, पारसी आदि धर्म के विद्वान भी इबादतखाना की धार्मिक चर्चाओं में भाग लेने लगे। अकबर इससे बहुत प्रभावित हुआ और उसने यह समझ लिया कि सभी धर्मों में कुछ अच्छे तत्व विद्यमान है। वह सभी धर्मों एवं धर्माचार्यों को आदर एवं सम्मान देने लगा। अत: कथन (B) गलत है। 1579 ई. में इबादतखाना बंद कर दिया गया
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Akbar Ke Shasankal Mein Sabse Badi Swarn Mudra Kaun Si Thi