अंधेर नगरी चौपट राजा टका सेर भाजी टका सेर खाजा का अर्थ

(A) जिसका शासन प्रबंध किसी नियम के अधीन न हो
(B) आनंद और उन्नति करने के दिन बीत जाना।
(C) ऐसा शौक जो बेढंगा लगे।
(D) इनमें से कोई नहीं

Answer : जिसका शासन प्रबंध किसी नियम के अधीन न हो
Explanation अंधेर नगरी चौपट राजा टका सेर भाजी टका सेर खाजा (Andher Nagari Chaupat Raja Taka Ser Bhaji Taka Ser Khaja) मुहावरे का अर्थ–'जिसका शासन प्रबंध किसी नियम के अधीन न हो' होता है। मुहावरे का अर्थ–'जिसके शासक जो अन्यायी हो, जिसका शासन प्रबंध किसी नियम के अधीन न हो, जिसके शासन में भले ही ईमानदार लोगों का असम्मान होता हो, लुच्चे और बेईमान जहां मनमानी करते हों' होता है। अंधेर नगरी चौपट राजा टका सेर भाजी टका सेर खाजा का वाक्य प्रयोग – आज गधे-घोड़े सब एक भाव बिक रहे हैं। अपराधी खुले घूम रहे हैं भले और निर्दोष लोग प्रताड़ित हैं। अयोग्य उन्नति कर रहे हैं। योग्य बेरोजगार हैं। घोटालों-कांडों में लिप्त लोग ईमानदार होने का दम भर रहे हैं। ईमानदार और सचरित्र भयभीत हैं। आज की इस दुरवस्था को देखकर यह कहावत एकदम सही प्रतीत होती है कि अंधेर नगरी चौपट राजा, टका सेर भाजी टका सेर खाजा। मुहावरा का अर्थ किसी भाषा समृद्धि और उसकी अभिव्यक्ति क्षमता का विकास होता है। मुहावरों एवं कहावतों के प्रयोग से भाषा में सजीवता और प्रवाहमयता आ जाती है। सरल शब्दों में मुहावरे लोक सानस की चिरसंचित अनुभूतियां हैं। मुहावरा शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है 'अभ्यास होना' या ‘आदी होना' और यह भाषा के प्राण हैं।
Tags : मुहावरे, सामान्य हिन्दी प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Andher Nagari Chaupat Raja Taka Ser Bhaji Taka Ser Khaja