अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार किस भारतीय को मिला था?

(A) अभिजीत बनर्जी
(B) वेंकटरामन रामकृष्णन
(C) अमर्त्य सेन
(D) ‎कैलाश सत्यार्थी

nobel-prize
Answer : अमर्त्य सेन
Explanation : अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार प्रथम भारतीय अमर्त्य सेन को मिला था। अर्थशास्त्र के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 1998 में उन्हें नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था। भारतीय मूल के अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन अपनी पुस्तक द आरग्यूमेंटेटिव इंडियन के लिए काफी चर्चित रहे है। शांतिनिकेतन में जन्में अमर्त्य सेन ने लोक कल्याणकारी अर्थशास्त्र की अवधारणा का प्रतिपादन किया है। उन्होंने कल्याण और विकास के विभिन्न पक्षों पर अनेक पुस्तकें तथा पर्चे लिखे हैं। प्रोफेसर सेन आम अर्थशास्त्रियों के समान नहीं हैं। वह अर्थशास्त्री होने के साथ-साथ, एक मानववादी भी हैं। वर्ष 2019 का अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी, एस्थर डुफ्लो और मिषाएल क्रेमर को मिला है।

अर्थशास्त्र का नोबेल आधिकारिक रूप से अल्फ्रेड नोबेल की याद में बैंक ऑफ स्वीडन की तरफ से दिया जाता है। इसे अल्फ्रेड नोबेल ने शुरू नहीं किया था। हालांकि इसे भी नोबेल पुरस्कार ही कहा जाता है। इसे स्वीडिश सेंट्रल बैंक रिक्सबांकेन ने 1968 में शुरू किया था। इसके एक साल बाद पहला पुरस्कार विजेता चुना गया। शांति पुरस्कार विजेता को छोड़ सभी विजेताओं को 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में ये पुरस्कार दिए जाते है। इसी दिन अल्फ्रेड नोबेल की मौत हुई थी। शांति पुरस्कार विजेता नॉर्वे के ओस्लो में पुरस्कार दिया जाता है।
Tags : नोबेल पुरस्कार, पुरस्कार और सम्मान
Related Questions
Web Title : Arthashastra Ka Nobel Puraskar Kis Bhartiya Ko Mila Tha