आयुर्वेद में स्नातक के बाद क्या करे?

Answer : फार्मास्यूटिकल मैनेजमेंट कोर्सेज
Explanation : आजकल फार्मा कंपनियां तेजी से आयुर्वेदिक दवाइयों का निर्माण कर रही हैं और लोकप्रियता भी प्राप्त कर रही हैं। अधिक से अधिक हेल्थ स्पा एंड पंचकर्मा सेंटर्स भारतीयों के साथ-साथ खासकर विदेशियों की भी सेवा कर रहे हैं। वास्तव में सरकार ने कुछ वर्षों में भारत को हेल्थ केयर एंड फिटनेस गंतव्य के रूप में स्थापित किया है। आज आयुर्वेद से जुड़े कई कोर्सेज हैं जिनमें कॅरिअर बनाया जा सकता है जैसे-फार्मास्यूटिकल मैनेजमेंट, क्लीनिकल रिसर्च, क्लीनिकल फार्मेसी, मेडिसिन एंड रेगुलेटरी अफेयर्स, हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन आदि। इसके अलावा आप स्नातकोत्तर और पीएचडी स्तर के कोर्सेज पर भी विचार कर सकती हैं। आप रिसर्च से संबंधित विकल्पों जैसे- डाटा रिट्रीवल, डाटा मैनेजमेंट, क्लीनिकल रिसर्च, रिपोर्ट राइटिंग के बारे में भी विचार कर सकती हैं। वैकल्पिक रूप से आप शॉर्ट टर्म कोर्सेज को भी चुन सकती हैं जैसे कि सोशल एंड प्रिवेंटिव मेडिसिन, मॉडर्न एनॉटमी, ईएनटी, फॉरंसिक मेडिसिन, पब्लिक हेल्थ मेडिसिन आदि।
Related Questions
Web Title : Ayurved Mein Snatak Ke Baad Kya Kare