बाबर ने अपनी आत्मकथा “तुजुक-ए-बाबरी ” किस भाषा में लिखी?

(A) तुर्की
(B) फारसी
(C) अरबी
(D) उर्दू

Question Asked : [MPPSC (Pre) Opt. History 2008]
Answer : तुर्की
बाबर की आत्मकथा 'तुजुक-ए-बाबरी' ऐतिहासिक दृृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण कृति है। चगाताई तुर्की में लिखी हुई यह कृति इतिहास का एक मूल्यनान स्त्रोत है और इसे चगताई ही नहीं अपितु तुर्की की भी श्रेष्ठ कृति माना गया है। यह ग्रंथ बाबर के पूरे जीवन का चित्रण नहीं है। इसमें तीन प्रमुख रिक्तियां रह गई हैं। इसके उसके जीवन के केवल 118 वर्षों को शामिल किया गया है।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Babar Ne Apni Atmakatha Tuzk E Babri Kis Bhasha Me Likhi