बारह बरस बाद घूरे के भी दिन फिरते हैं का अर्थ

(A) एक समय पर सबका भाग्य उदय होता हैं
(B) अधकचरा ज्ञान हमेशा खतरनाक होता है।
(C) आजीवन पाप करने के बाद साधु होने का ढोंग करना।
(D) इनमें से कोई नहीं

Answer : एक समय पर सबका भाग्य उदय होता हैं
Explanation बारह बरस बाद घूरे के भी दिन फिरते हैं (Barah Baras Baad Ghoore Ke Bhi Din Firte Hain) मुहावरे का अर्थ–'एक समय पर सबका भाग्य उदय' होता है। मुहावरे का अर्थ–'कभी न कभी सबका भाग्य उदय होता है या छोटे और दरिद्र व्यक्ति को कभी न कभी सम्मान और संपन्नता मिलती ही है' होता है। बारह बरस बाद घूरे के भी दिन फिरते हैं का वाक्य प्रयोग – किसान हरिया ने जमींदार जरनैलसिंह से कहा, 'मालिक जी-जान से मेहनत कर रहा हूं। बेटे को कॉलेज में पढ़ा रहा हूं। कभी न कभी तो ईश्वर मेरी भी सुनेगा। यही सोचकर सब सह रहा हूं। कि बारह बरस में घूरे के दिन भी ​​फिरते हैं।' मुहावरा का अर्थ किसी भाषा समृद्धि और उसकी अभिव्यक्ति क्षमता का विकास होता है। मुहावरों एवं कहावतों के प्रयोग से भाषा में सजीवता और प्रवाहमयता आ जाती है। सरल शब्दों में मुहावरे लोक सानस की चिरसंचित अनुभूतियां हैं। मुहावरा शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है 'अभ्यास होना' या ‘आदी होना' और यह भाषा के प्राण हैं।
Tags : मुहावरे, सामान्य हिन्दी प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Barah Baras Baad Ghoore Ke Bhi Din Firte Hain