भारत का महान्यायवादी कौन होता है?

(A) उसे केवल भारत के उच्चतम न्यायालय में सुनवाई का अधिकार है।
(B) वह ऐसा पारिश्रमिक प्राप्त करेगा जिसे राष्ट्रपति निर्धारित करे।
(C) वह उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश होने के लिए अर्ह होगा।
(D) वह भारत सरकार को सभी विधि सम्बंधी विषयों में सलाह देगा।

Answer : उसे केवल भारत के उच्चतम न्यायालय में सुनवाई का अधिकार है।
Explanation : भारत का महान्यायवादी (Attorney General of India) : संविधान के अनुच्छेद 76 में भारत के महान्यायवादी के पद का प्रावधान है, महान्यायवादी की नियक्ति राष्ट्रपति द्वारा सरकार की सलाह पर की जाती है। वह एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिये जो सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त होने के योग्य हो। उसके दायित्व हैं; ऐसे कानूनी मामलों पर भारत सरकार को सलाह देना, जो राष्ट्रपति द्वारा उसे भेजे जाते हैं। भारत सरकार की ओर से उन सभी मामलों में जो कि भारत सरकार से संबंधित हैं, सर्वोच्च न्यायालय या किसी भी उच्च न्यायालय में उपस्थित होना।
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Bharat Ka Mahanyayvadi Kaun Hota Hai