भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में कौन सी बेरोजगारी पाई जाती है?

(A) मौसमी बेरोजगारी
(B) प्रच्छन्न बेरोजगारी
(C) ऐच्छिक बेरोजगारी
(D) A और B दोनों

Answer : A और B दोनों
Explanation : भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में मौसमी और प्रच्छन्न बेरोजगारी पाई जाती है। प्रच्छन्न बेरोजगारी, अर्थात् छुपी हुई बेरोजगारी, यह वह स्थिति है, जब एक श्रमिक काम तो कर रहा होता है, लेकिन उसकी क्षमता का पूरा उपयोग नहीं हो पाता है। ऐसी स्थिति में एक श्रमिक किसी खास काम में इसलिये लगा रहता है, क्योंकि उसके पास उससे बेहतर करने को कुछ भी नहीं होता। इस स्थिति में श्रमिक के पास कोई विकल्प नहीं होता बल्कि किसी खास काम को करने की मजबूरी होती है। उदाहरण के तौर पर देखे तो ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि क्षेत्र में अक्सर देखने को मिलता है, कि जिस खेत पर काम करने के लिए एक-दो लोग काफी होते हैं। उसी खेत पर कई लोग काम करते रहते हैं। इसलिए, यहां तक कि अगर हम कुछ लोगों को (कृषि व्यवसाय से) बाहर ले जाते हैं, तो उत्पादन प्रभावित नहीं होगा। (ii) शहरी क्षेत्रों में सेवा क्षेत्र में हजारों अनियत कर्मचारी हैं, जहाँ वे पूरे दिन काम करते हैं, परन्तु बहुत कम कमा पाते हैं, एक ही दुकान पर आपको कई भाई काम करते मिल जाएँगे। उनको अलग-अलग दुकान चलानी चाहिए, लेकिन सही अवसर के अभाव में उन्हें एक ही दुकान पर काम करने को बाध्य होना पड़ता है।
Tags : समाजशास्त्र प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Bharat Ke Gramin Kshetro Mein Kaun Si Berojgari Payi Jati Hai