भारत में विद्युत तार के जनक कौन थे? Vidyut Tar Ke Janak

(A) लॉर्ड कैनिंग
(B) विलियम बैंटिक
(C) लॉर्ड डलहौजी
(D) इनमें से कोई नहीं

Question Asked : UKPSC Combined State (Civil) Lower Subordinate Service Exam 2021
Answer : लॉर्ड डलहौजी
Explanation : भारत में विद्युत तार का जनक लॉर्ड डलहौजी (1848-56) को माना जाता है। भारत में प्रथम विद्युत तार की शुरुआत वर्ष 1852 में कलकत्ता से आगरा के बीच प्रारम्भ हुई। डलहौजी के ही काल में भारत में रेल सेवा व डाक सेवा की शुरुआत हुई थी। कैनिंग (वर्ष 1856-62) के काल में वर्ष 1857 का विद्रोह हुआ था। सती प्रथा तथा ठगी प्रथा का अंत लॉर्ड विलियम बैंटिक (वर्ष 1828-35) ने किया था।

बता दे ​कि अगर प्रश्न हो कि विद्युत तार का जनक किसे माना जाता है? जिसके विकल्प के में थियोफ्रेस्टस, गैलिलियो गेलीली, अलेक्जेंडर ग्राहम बेल और माइकल फैराडे हो, तो सही उत्तर माइकल फैराडे होगा। क्योंकि उन्होंने विद्युत चुंबकत्व के नियमों की खोज की थी और पहला इलेक्ट्रिक जनरेटर और पहला विद्युत् मोटर भी माइकल फैराडे ने बनाया था। इसलिए माइकल फैराडे को विद्युत् के जनक के रूप में जाना जाता है।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Bharat Mein Vidyut Tar Ke Janak Kaun The