भारतीय परिषद अधिनियम 1909 में किसकी व्यवस्था की गई?

(A) द्वैधशासन प्रणाली
(B) साम्प्रदायिक प्रतिनिधित्व
(C) संघीय व्यवस्था
(D) प्रान्तीय स्वायत्ता

Answer : साम्प्रदायिक प्रतिनिधित्व
Explanation : भारतीय परिषद अधिनियम 1909 (मार्ले–मिन्टो सुधार) का लक्ष्य 1882 के अधिनियम के दोषों को दूर करना तथा भारतीय राजनीति में बढ़ते हुए उग्रवाद तथा क्रांतिकारी राष्ट्रवाद से उत्पन्न स्थिति का सामना करना था। इस अधिनियम के द्वारा ब्रिटिश सरकार ने साम्प्रदायिक आधार पर निवार्चन पद्धति को स्थापित करने का प्रयास किया। इस अधिनियम के द्वारा भारत में प्रतिनिधित्व के आधार पर विधान परिषदें में निर्वाचन प्रणाली लागू की गई। चुनाव के लिए तीन प्रकार के निर्वाचक मण्डलों का प्रावधन किया गया–1. साधारण निर्वाचक मंडल, 2. वर्ग विशेष, तथा 3. विशेष निर्वाचक मंडल। इस अधिनियम में ऐसी व्यवस्था कर सरकार ने भारत में साम्प्रदायिकता का बीज बो दिया। कालान्तर में यह भारत विभाजन का कारण बना।
Tags : आधुनिक भारत प्रश्नोत्तरी, इतिहास प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Bharatiya Parishad Adhiniyam 1909 Mein Kiski Vyavastha Ki Gayi