भूप सहस दस एकहि बारा में कौन सा अलंकार है?

(A) अतिशयोक्ति अलंकार
(B) विरोधाभास अलंकार
(C) काव्य लिंग अलंकार
(D) विशेषोक्ति अलंकार

Answer : अतिशयोक्ति अलंकार
Explanation : भूप सहस दस एकहि बारा। लगे उठावन टरइ न टारा॥ पंक्ति में अतिशयोक्ति अलंकार होता है। धनुभंग के समय दस हजार राजा एक साथ ही उस धनुष शिव-धनुष को उठाने लगे, पर वह तनिक भी अपनी जगह से रहीं हिला। यहां लोक-सीमा से अधिक बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया गया है, अतएव अतिशयोक्ति अलंकार है।
अतिशयोक्ति अलंकार की परिभाषा – जहां किसी वस्तु, पदार्थ अथवा कथन (उपमेय) का वर्णन लोक-सीमा से बढ़कर प्रस्तुत किया जाए, वहां अतिशयोक्ति अलंकार होता है। सामान्य हिंदी प्रश्न पत्र में अतिशयोक्ति अलंकार संबंधी प्रश्न पूछे जाते है। इसलिए यह प्रश्न आपके लिए कर्मचारी चयन आयोग, बीएड, आईएएस, सब इंस्पेक्टर, पीसीएस, बैंक भर्ती परीक्षा, समूह 'ग' आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा विभिन्न विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए भी उपयोगी साबित होगें।
Tags : अतिशयोक्ति अलंकार, अलंकार, अलंकारिक शब्द
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Bhoop Sahas Das Ekahi Bara Main Alankar