वृहत ज्वार भाटा किसे कहा जाता है?

(A) उच्च और निम्न ज्वार-भाटाओं के दौरान समुद्र तल में ​अधिकतम अंतर
(B) उच्च और निम्न ज्वार-भाटाओं के दौरान समु्द्र तल में निम्नतम अंतर
(C) उच्च और निम्न ज्वार-भाटाओं के दौरान समुद्र तल में कोई अंतर न होना
(D) चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण की तुलना में सूर्य के गुरुत्वाकर्षण का प्रतिकरण

Answer : उच्च और निम्न ज्वार-भाटाओं के दौरान समुद्र तल में ​अधिकतम अंतर
उच्च और निम्न ज्वार-भाटाओं के दौरान समुद्र तल में अधिकतम अंतर वाली स्थति को वृहत ज्वार-भाटा कहते हैं। वृहत ज्वार-भाटा उस स्थिति में आता है, जब सूर्य, पृथ्वी एवं चंद्रमा एक सीध में सरल रेखा में स्थित होते हैं। इस स्थिति में सूर्य तथा चंद्रमा की संयुक्त आकर्षण शक्ति द्वारा समुद्र का अधिक जल आकर्षित होता है, जिससे ऊंचे-ऊंचे ज्वार उत्पन्न होते हैं। इस प्रकार की स्थिति में पूर्णमासी एवं अमावस्या को उत्पन्न होती है। जब उच्च और निम्न ज्वार भाटाओं के दौरान समुद्रतल में निम्नतम अंतर होता है तो इस स्थिति को लघु ज्वार कहते हैं।
Tags : भूगोल प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Brihat Jwar Bhata Kise Kaha Jata Hai