बुद्धि के एकल कारक का सिद्धांत किसने दिया था?

(A) थॉर्नडाइक
(B) पैवलॉव
(C) अल्फ्रेड बिने
(D) फ्रीमैन

Answer : अल्फ्रेड बिने
Explanation : बुद्धि के एकल कारक का सिद्धांत अल्फ्रेड बिने ने दिया था। उनका विचार था कि बुद्धि केवल एक खण्डात्मक होती है, जिसकी मात्रा अलग-अलग मनुष्यों में भिन्न-भिन्न होती है। अल्फ्रेड बिने एक फ़्रांसिसी मनोविज्ञानी थे। वह पहले मनोवैज्ञानिक थे जिन्होंने बुद्धि को वैज्ञानिक एवं व्यवस्थित रूप में समझने का प्रयास किया। उनको बुद्धि मापन क्षेत्र का जन्मदाता माना जाता है। बिने ने यह स्पष्ट किया कि बुद्धिकेवल एक कारक नहीं है जिसको कि हम एक विशेष परीक्षण द्वारा माप सकें अपितु यह विभिन्न योग्यताओं की वह जटिल प्रक्रिया है जो समग्र रूप से क्रियान्वित होती है। बिने ने साईमन के सहयोग से सन् 1905 में प्रथम बुद्धि मापनी अर्थात् बुद्धि परीक्षण का निर्माण किया जिसे बिने-साईमन बुद्धि परीक्षण का नाम दिया। ये बुद्धि परीक्षण तीन से सोलह वर्ष की आयु के बच्चों की बुद्धि का मापन करता है। इस परीक्षण में सरलता से कठिनता के क्रम में तीस पदों का प्रयोग किया गया। इस परीक्षण से व्यक्तियों के बुद्धि केस्तरों का पता लगाया जा सकता है।
Tags : सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Buddhi Ke Ekal Karak Ka Siddhant Kisne Diya Tha