चैतन्य महाप्रभु किस संप्रदाय से जुड़े थे?

(A) श्री संप्रदाय
(B) वारकरी संप्रदाय
(C) गौड़ीय संप्रदाय
(D) इनमें से कोई नहीं

Answer : गौड़ीय संप्रदाय
Explanation : चैतन्य महाप्रभु गौड़ीय संप्रदाय से जुड़े थे। चैतन्य महाप्रभु सगुण भक्ति शाखा से संबंधित थे। चैतन्य का जन्म बंगाल के नदिया में हुआ था। इनका वास्तविक नाम विश्वम्भर था। इन्हें बंगाल में आधुनिक वैष्णववाद का संस्थापक माना जाता है। इन्होंने भक्ति में कीर्तन को मुख्य स्थान दिया। भक्त कवियों में चैतन्य एकमात्र ऐसे कवि थे, जिन्होंने मूर्तिपूजा का विरोध नहीं किया। इन्होंने अचिन्त्य भेदाभेद संप्रदाय की स्थापना की थी।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Chaitanya Mahaprabhu Kis Sampraday Se Jude The