चरण धरत, चिंता करत, चितवत चारहुँ ओर में कौन सा अलंकार है?

(A) श्लेष अलंकार
(B) उदाहरण अलंकार
(C) विरोधाभास अलंकार
(D) काव्य लिंग अलंकार

Answer : श्लेष अलंकार
Explanation : चरण धरत, चिंता करत, चितवत चारहुँ ओर। सुबरन को ढूंढ़त फिरत, कवि, कामी और चोर।। पंक्ति में श्लेष अलंकार होता है। यहां 'सुबरन' शब्द के तीन अर्थ– अच्छे वर्ण, अच्छे रंग और स्वर्ण है। श्लेष अलंकार की परिभाषा – 'श्लेष' का अर्थ है 'चिपकना'। जहां एक शब्द एक ही बार प्रयुक्त होने पर दो अर्थ दें वहां श्लेष अलंकार होता है। दूसरे शब्दों में जहां एक ही शब्द से दो अर्थ चिपके हों वहां श्लेष अलंकार होता है। सामान्य हिंदी प्रश्न पत्र में श्लेष अलंकार संबंधी प्रश्न पूछे जाते है। इसलिए यह प्रश्न आपके लिए कर्मचारी चयन आयोग, बीएड, आईएएस, सब इंस्पेक्टर, पीसीएस, बैंक भर्ती परीक्षा, समूह 'ग' आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा विभिन्न विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए भी उपयोगी साबित होगें।
Tags : अलंकार, अलंकारिक शब्द, श्लेष अलंकार
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Charan Dharat Chinta Karat Chitavat Charahun Or Main Alankar