सिविल अधिकार संरक्षण अधिनियम, 1955 के अधीन सभी दंडनीय अपराध है?

(A) संज्ञेय तथा अजमानतीय
(B) संज्ञेय तथा अशमनीय
(C) असंज्ञेय तथा जमानतीय
(D) असंज्ञेय तथा शमनीय

Answer : संज्ञेय तथा अजमानतीय
Explanation : सिविल अधिकार संरक्षण अधिनियम, 1955 के अधीन सभी दंडनीय अपराध संज्ञेय तथा अजमानतीय है। इस अधिनियम की धारा-15 के अन्तर्गत सभी अपराध संज्ञेय या संक्षेप विचारणीय तथा अजमानतीय हैं। ऐसे अधिनियम में दण्डनीय हर अपराध संज्ञेय होगा और ऐसे हर अपराध पर जो कम से कम तीन मास से अधिक की अवधि के कारावास के दण्डनीय हैं, प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट या महानगर क्षेत्र में महानगर मजिस्ट्रेट द्वारा उक्त संहिता में विनिर्दिष्ट प्रक्रिया के अनुसार संक्षेपतः विचार किया जा सकेगा।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
Related Questions
नवीनतम करेंट अफेयर्सजीके 2021 के लिए GKPU फ़ेसबुक पेज को Like करें
Web Title : Civil Adhikar Sanrakshan Adhiniyam 1955