दीवान-ए-मुस्तखराज विभाग की स्थापना की गई थी?

(A) कृषि विभाग में सुधार करने के लिए
(B) जागीरदारों की शक्ति को कुचलने के लिए
(C) डाक व्यवस्था में सुधार करने के लिए
(D) बकाया लगान की वसूली के लिए

Question Asked : [UPPCS (Pre) GS Ist History 1998]
Answer : बकाया लगान की वसूली के लिए
अलाउद्दीन के समय में विशाल प्रदेशों को खालसा भूमि में परिवर्तित कर दिया गया था। वसूली प्रणाली के दोषों के संदर्भ में आर पी त्रिपाठी ने लिखा है कि राजस्व एकत्रीकरण में निहित दोषों में एक त्रुटिपूर्ण वसूली भी था जिसके कारण बहुधा राशि बिना वसूले ही रह जाती थी। राजस्व निर्धारित एवं एकत्र करने का तंत्र अभी अविकसित था। अत: वसूल न किया हुआ बकाया अपरिहार्य था। खालसा भूमि के विस्तार से नीचे दर्रे के राजस्व कर्मचारियों की संख्या बढ़ गई थी। जिनमें से अधिकांश भ्रष्ट एवं लुटेरे थे। अत: अलाउद्दीन ने इन दोषों को दूर करने के लिए 'दीवान-ए-मुस्तखराज' नामक विभाग की स्थापना की।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Diwan E Mustakhraj Vibhag Ki Sthapna Ki Gayi Thi