द्विपक्षीय एकाधिकार किस बाजार स्थिति को दर्शाता है?

(A) दो विक्रेता, दो क्रेता
(B) एक विक्रेता और दो क्रेता
(C) दो विक्रेता और एक क्रेता
(D) एक विक्रेता और एक क्रेता

Answer : एक विक्रेता और एक क्रेता
Explanation : द्विपक्षीय एकाधिकार एक विक्रेता और एक क्रेता बाजार स्थिति को दर्शाता है। द्विपक्षीय एकाधिकार वह स्थिति है जिससे श्रम की मांग करने वाली एक फर्म (monopsonist) होती है तथा श्रम की पूर्ति केवल एक श्रम संघ (monopolist) द्वारा की जाती है। इस स्थिति में श्रम संघ मजदूरी की अधिक से अधिक दर प्राप्त करना चाहेंगे तथा मालिक कम से कम मजदूरी देना चाहेंगे। द्विपक्षीय एकाधिकार में अंतिम परिणाम सैद्धांतिक रूप से अनिर्धारणयी होता है।
Tags : अर्थशास्त्र प्रश्नोत्तरी, अर्थशास्त्र वस्तुनिष्ठ प्रश्न उत्तर, ऑनलाइन अर्थशास्त्र सवाल और जवाब
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Dvipakshiya Ekadhikar Kis Bazar Sthiti Ko Darshata Hai