फारसी कविता का भारतीयकरण करने वाला प्रथम कवि था?

(A) अमीर हसन
(B) अमीर खुसरो
(C) फैजी
(D) जुज्जानी

Question Asked : [UPPSC Asst. Forest Conservator Exam. 2015]
Answer : अमीर खुसरो
अमीर खुसरो फारसी कविता का भारतीयकरण करने वाला प्रथम कवि था। इन्हें भारत का 'तूती-ए-हिंद' कहा जाता था। इतिहास लिखना अमीर खुसरो की मूल चिंता नहीं थी। अपनी कविताओं में उन्होनें प्राय: ऐतिहासिक विषयों को लिया है। इस प्रकार की सभी कृतियों सन् 1289-1325 के बीच रची गयी थी। इनमें से कुछ की रचना के लिये उनसे खास तौर पर कहा गया था। जबकि कुछ अन्य उन्होंने अपने शाही संरक्षकों को खुश करने के लिए लिखी थी। वे निष्पक्ष इतिहासकार नहीं थे। यहां तक कि अपनी मसनबी के लिए उन्होंने जिन विषयों का उपयोग किया। वे स्वयं उनके चुने हुए नहीं थे। उन्हें यह बताया गया था कि वे किस विषय पर लिखे। फिर भी कवि होनेे के नाते वे ऐसे विषयों एवं विवरणों का उल्लेख कर सकते थे जिनके बारे में नियमित इतिहासकारों ने कुछ नहीं लिखा। वे अपने समय के सांस्कृतिक तथा सामाजिक जीवन के बारे में जो अंतदृष्टि देेते हैं वह अत्यंत विरल हैं। भारतीय गायन में कौव्वाली और सितार को इन्हीं का देन माना जाता है। इनकी कविता में भारतीय पर्यावरण की स्पष्ट झलक मिलती है।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Farasi Kavita Ka Bharatiyakaran Karne Wala Pratham Kavi Tha