गांधी-इरविन समझौते में किस आंदोलन को रोकने का प्रावधान था?

(A) भारत छोड़ो आंदोलन
(B) सविनय अवज्ञा आंदोलन
(C) असहयोग आंदोलन
(D) साइमन विरोधी आंदोलन

Answer : सविनय अवज्ञा आंदोलन
Explanation : गांधी-इरविन समझौते में सविनय अवज्ञा आंदोलन को रोकने का प्रावधान था। सविनय अवज्ञा आंदोलन का आरम्भ 12 मार्च, 1930 को प्रसिद्ध दांडी मार्च के साथ आरम्भ हुआ। इसका कारण साइमन विरोधी आंदोलन, क्रांतिकारी आतंकवाद का पुनर्जीवित होना, साम्यवादियों के नेतृत्व में कामगारों द्वारा उग्र विरोध, नेहरू रिपोर्ट का अस्वीकार किया जाना था। गांधी जी ने 31 जनवरी, 1930 को 11 सूत्री प्रस्ताव रखा जिसकी मुख्य मांगें थीं–1. भू–राजस्व आधा करना, 2. सैनिक व्यय में 50 प्रतिशत की कमी, 3. नमक कर की समाप्ति, 4. विदेशी कपड़े पर विशेष आयात कर, 5. विनिमय दर में कमी, 6. गुप्तचर विभाग की समाप्ति आदि थे। भारत छोड़ो आंदोलन 8 अगस्त, 1942 को, असहयोग आंदोलन अगस्त, 1920 में गांधीजी द्वारा चलाए गए अन्य आंदोलन थे।
Tags : आधुनिक इतिहास, इतिहास प्रश्नोत्तरी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Gandhi Irwin Samjhota Mein Kis Andolan Ko Rokne Ka Pravdhan Tha