गर्भाधान से बालक के जन्म तक की अवधि को क्या कहा जाता है?

(A) किशोरावस्था
(B) बचपन
(C) प्रसव-पूर्वकाल
(D) वयस्कता

Answer : प्रसव-पूर्वकाल
Explanation : मनोवैज्ञानिकों ने विकास के दृष्टिकोण से गर्भधारण से लेकर पूरे जीवनकाल को 10 अवस्थाओं में बांटा है, जिनमें से प्रथम अवस्था प्रसव-पूर्वकाल है, जो गर्भधारण से प्रारम्भ होकर जन्म तक की अवधि होती है। गर्भकालीन विकास की कुल अवधि 9 माह की होती है। इसे तीन अवस्थाओं में विभाजित किया गया है। शुक्राणु से गर्भित डिम्ब से बीजावस्था आरम्भ होती है। यह एक सप्ताह तक चलती है। इस अवधि में दूसरी कोशिका विभाजन की क्रिया बड़ी तीव्र गति सेचलती है। भ्रूणावस्था में विकास की अवस्था प्रारंभ होती है। यह 1-7 सप्ताह तक की होती है इस अवधि में भ्रूण का संरचनात्मक विकास पूर्ण हो जाता है। तीसरी अवस्था गर्भस्थ शिशु की अवस्था है। यह अवस्था 3 माह से लेकर शिशु जन्म के पहले तक की है। इसमें शरीर के विभिन्न अंगों एवं मांसपेशियों का विकास पूर्ण हो जाता है और सभी शारीरिक अंग क्रियाशील हो जाते हैं। शिशु को जीवित रहने के लिए आवश्यक प्रक्रियाएं विकसित हो जाती हैं।
Tags : सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Garbhadhan Se Balak Ke Janm Tak Ki Avadhi Ko Kya Kaha Jata Hai