घाटे की वित्त व्यवस्था का अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ता है?

(A) करो में कमी
(B) मजदूरी में बढ़ोतरी
(C) मुद्रा आपूर्ति में बढ़ोतरी
(D) मुद्रा आपूर्ति में कमी

Question Asked : 56th to 59th BPSC (Pre) 2015
Answer : मुद्रा आपूर्ति में बढ़ोतरी
Explanation : घाटे की वित्त व्यवस्था का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव मुद्रा आपूर्ति में बढ़ोतरी होती है। हीनाथ प्रबंधन (अर्थात घाटे की पूर्ति के लिए नए नोट छापना) से मुद्रास्फीति की संभावना बनती है क्योंकि इससे मुद्रा की आपूर्ति वस्तुओं एवं सेवाओं की तुलना में अधिक हो जाती हैं। आपको बता दे कि राजस्व घाटे का मतलब सरकार की अनुमानित राजस्व प्राप्ति और व्यय में अंतर होता है। किसी वित्त वर्ष के लिए सरकार राजस्व प्राप्ति और अपने खर्च का एक अनुमान लगाती है। लेकिन जब उसका व्यय उसके अनुमान से बढ़ जाता है, तो इसे राजस्व घाटा कहा जाता है।
Tags : अर्थव्यवस्था प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Ghat Ke Vitt Vyavastha Ka Arthvyavastha Par Kya Prabhav Padta Hai