गुप्तकालीन स्वर्ण मुद्रा कौन सी है?

(A) कौड़ी
(B) दीनार
(C) निष्क
(D) पण

Answer : दीनार
Explanation : गुप्तकालीन स्वर्ण मुद्रा को दीनार कहा जाता था जबकि फाहान ने कौड़ियों का भी व्यापार विनिमय में उपयोग की बात कही है। समुद्रगुप्त ने मुख्य रूप से केवल स्वर्ण सिक्कों को ही जारी किया था। उसके राज्य में तांबे के सिक्के का प्रचलन नाममात्र का ही था। चन्द्रगुप्त के पुत्र समुद्रगुप्त ने अपने सिक्कों में स्वयं को एक धनुर्धर के रूप में प्रदर्शित किया था। इस चित्र को आगे आने वाले गुप्त शासको ने भी पसंद करते हुए अपनाया था। इसके अलावा समुद्रगुप्त द्वारा जारी किए सिक्के में उसे एक हाथ में युद्ध में प्रयोग किए जाने वाले कुल्हाड़े के साथ भी दिखाया गया है और इसके साथ ही उसके सामने एक संदेशवाहक भी खड़ा है। समुद्रगुप्त ने कला प्रेमी व धार्मिक रूप को भी सिक्कों के रूप में देखा जा सकता है। कुछ सिक्कों में उसे वीणा बजाते हुए और यज्ञ करते हुए भी दिखाया गया था।
Tags : आधुनिक इतिहास, इतिहास प्रश्नोत्तरी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Guptakalin Swarna Mudra Kaun Si Hai