जैन धर्म के त्रिरत्न में कौन-कौन सम्मिलित है?

(A) सम्यक दर्शन
(B) सम्यक ज्ञान
(C) सम्यक चरित्र
(D) उपयुक्त सभी

Correct Answer : सम्यक दर्शन, सम्यक ज्ञान और सम्यक चरित्र उपयुक्त सभी
Explanation : जैन धर्म के तीन रत्न (त्रिरत्न) को रत्नत्रय भी कहते हैं। इनको सम्यक दर्शन, सम्यक ज्ञान एवं सम्यक चरित्र के रूप में बताया गया है। त्रिरत्न एक संस्कृत शब्द है, जिसका शाब्दिक अर्थ है- 'तीन रत्न'। पालि भाषा में इसे 'ति-रतन' लिखा जाता है। आध्यात्मिक मुक्ति या मोक्ष के लिए इन त्रिरत्नों की परम आवश्यकता है।
Useful for Exams : Quiz Programme, Interview & Competitive Exams
नवीनतम करेंट अफेयर्ससामान्य ज्ञान से जुड़े हर प्रश्न उत्तर को पाने के लिए GKPU फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title : jain dharm ke triratna me kaun kaun sammilit hai
Tags : कला और संस्कृति प्रश्नोत्तरी, जैन धर्म
Always Ask Questions
Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *