काली कपास मृदा की रचना किसके अपक्षयण से हुई है?

(A) भूरी वन मृदा
(B) विदरी (फिशर) ज्वालामुखीय चट्टान
(C) ग्रेनाइट और शिस्ट
(D) शैल और चूना-पत्थर

Answer : विदरी (फिशर) ज्वालामुखीय चट्टान
Explanation : भारत में काली कपास मृदा की रचना विदरी (फिशर) ज्वालामुखी चट्टानों के अपक्षयण से हुई है। इसे ट्रॉपिकल ब्लैक अर्थ एवं ट्रॉपिकल चरेनोजम आदि नामों से भी जाना जाता है। काली मृदा देश के लगभग 5 लाख वर्ग किमी में विस्तृत है, जिसमें यह प्रमुख रूप से महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिमी मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान, तमिलनाडु के कुछ क्षेत्र और उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में पाई जाती है। इसमें लोहा, चूना, कैल्सियम, पोटोश, एल्युमीनियम और मैग्नीशियम की प्रचुरता पाई जाती है।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Kali Kapas Mrida Ki Rachna Kiske Apakshay Se Hui Hai