कर्पूर मंजरी के लेखक राजशेखर किसके गुरु थे?

(A) महेंद्र पाल I
(B) नरसिंह वर्मा द्वितीय
(C) भोज परमार
(D) युवराजदेव द्वितीय

Question Asked : [UPPCS (Pre) GS Ist History 2007]
Answer : महेंद्र पाल I
'कर्पूर मंजरी' के लेखक राजशेखर प्रतिहार शासक महेद्रपाल प्रथम के गुरु थे। राजशेखर ने महेंद्रपाल प्रथम को 'निर्भय राज' तथा 'निर्भय नरेंद्र' कहा है। महेंद्रपाल प्रथम के संरक्षण में रहकर ही राजशेखर ने 'कर्पूर मंजरी' नाटक (प्राकृत भाषा) तथा संस्कृत में 'विद्वसालभंजिका' 'बाल रामायण', 'बाल भारत' (प्रचंड पांडव) नाटकों तथा 'काव्य मीमांसा', भुवनकोष' तथा 'हरविलास' नामक काव्य ग्रंथों की रचना की थी। राजशेखर महेंद्रपाल प्रथम के उत्तराधिकारी महीपाल प्रथम के समय में भी रहा तथा महिपाल प्रथम को 'रघुकुलमुक्तमणि' तथा 'आर्यवर्त' का महाराजाधिराज' का विशेषण प्रदान किया।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Karpuramanjari Ke Lekhak Rajshekhar Kiske Guru The