खड़ी बोली के प्रथम कवि कौन माने जाते हैं?

(A) वेद प्रताप वैदिक
(B) पं. गिरिधर शर्मा
(C) हरिऔध
(D) महावीर प्रसाद द्विवेदी

Answer : अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' Ayodhya Prasad Upadhyay
खड़ी बोली के प्रथम कवि अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' माने जाते हैं। अयोध्या सिंह हिन्दी के एक सुप्रसिद्ध साहित्यकार थे। वह दो बार हिंदी साहित्य सम्मेलन के सभापति रह चुके हैं और सम्मेलन द्वारा विद्यावाचस्पति की उपाधि से सम्मानित किये जा चुके हैं। प्रिय प्रवास हरिऔध जी का सबसे प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण ग्रंथ है। यह हिंदी खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य है और इसे मंगलाप्रसाद पारितोषिक पुरस्कार प्राप्त हो चुका है। बतादें कि हरिऔध जी का जन्म उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के निजामाबाद नामक स्थान में हुआ। उनके पिता का नाम पंडित भोलानाथ उपाध्याय था।
Tags : सामान्य हिन्दी प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Khadi Boli Ke Pratham Kavi Kaun Mane Jate Hain