खेजड़ी वृक्ष की पूजा कब की जाती है?

(A) विजयादशमी
(B) बंसत
(C) दीपावली
(D) होली

Answer : विजयादशमी/दशहरे पर
Explanation : राजस्थान में खेजड़ी वृक्ष की पूजा विजयादशमी/दशहरे पर की जाती है। पांडवों ने वनवास के तहत अज्ञातवास के समय अपने शस्त्रों को खेजड़ी वृक्ष में छिपा कर रखा था। तभी से इसकी पूजा की जाती है। विजयादशमी के दिन क्षत्रिय अस्त्र व शस्त्रों की पूजा करते हैं, वहीं ब्राह्मण व अन्य वर्ग शमी (खेजड़ी) की पूजा करते हैं। रावण दहन के बाद घर लौटते समय शमी के पत्ते लूट कर लाने की प्रथा है जो स्वर्ण का प्रतीक मानी जाती है।
Related Questions
Web Title : Khejri Vriksh Ki Puja Kab Ki Jati Hai