किस संस्कृत ग्रंथ में पालो के इतिहास का वर्णन है?

(A) प्रबंध चिंतामणि
(B) राम-चरित
(C) सुकृत-संकीर्तन
(D) विक्रमादेव-चरित

Question Asked : [UPPCS (Pre) GS Ist History 2002]
Answer : राम-चरित
'रामचरित' संध्याकर नंदी द्वारा रचित प्रसिद्ध ग्रंथ है। इसमें पाल शासक रामपाल तथा परवर्ती पाल शासकों के इतिहास का वर्णन है। हर्ष के समकालीन शशां के बाद पालवंश के नेतृत्व में बंगाल की शक्ति संगठित हुई और देखते ही देखते उनकी गणना उत्तरी भारत की प्रमुख शक्तियों में होने लगी। पाल वंश की स्थापना बौद्ध धर्म के अनुयायी गोपाल ने की थी। बंगाल के सामंतों ने बंगाल की राजनीतिक कलह तथा उथल-पुथल को समाप्त करने के लिए गोपाल की योग्यता से प्रभावित होकर उसे अपना शासक चुना था। इन सामंतों ने राज्य के हित के लिए अपने व्यक्तिगत स्वार्थ का बलिदान कर दिया। तिब्बती इतिहासकार तारानाथ के अनुसार गोपाल पुंड़वर्धन (बोगरा जिला) के एक क्षत्रिय परिवार में उत्पन्न हुआ था। उसने युद्ध द्वारा राज्य का विस्तार किया तथा राज्य को दृढ़ संगठन भी प्रदान किया था।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Kis Sanskrit Granth Mein Palo Ke Itihas Ka Varnan Hai