‘क्षणिकवाद’ का प्रतिपादन किसने किया?

(A) बुद्ध
(B) जैन
(C) चार्वाक
(D) न्याय

asked-questions
Question Asked : Chhattisgarh PSC Pre-Exam 2017
Answer : बुद्ध (Buddha)
क्षणिकवाद का प्रतिपादन बौद्ध धर्म के प्रतिपादक 'भगवान बुद्ध ने किया था। बौद्ध धर्म का सम्पूर्ण दर्शन इसी के चारों तरफ घूमता है। इसक मूलाधार चार आर्य सत्य है। (क) दु:ख (ख) दु:ख समुदाय (ग) दु:ख निरोध (घ) दु:ख निवारक मार्ग। तृष्णा के बुझ जाने को मज्झिम प्रतिपदा या मध्यम मार्ग कहते है। अष्टांगिक मार्ग भिक्षुओं का 'कल्याण मित्र' कहलाता है। जैन धर्म के प्रथम तीर्थकर ऋषभ देव तथा अन्तिम तिर्थकर महावीर स्वामी थे। जैन धर्म में 'जिन' अर्थात् 'अहिरन्त' और 'सिद्ध' को ईश्वर माना जाता है। चार्वाक के संस्थापक गौतम (न्यायसूत्र) थे, सांख्य के कपिल तथा योग के पतंजलि थे।
Tags : कला और संस्कृति प्रश्नोत्तरी, सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Related Questions
Web Title : Ksanikavada Ka Pratipadan Kisne Kiya