कुंभलगढ़ दुर्ग का प्रमुख शिल्पी कौन था?

(A) देवराज
(B) मंडन
(C) महेश
(D) अत्रि

Answer : मंडन
कुंभलगढ़ दुर्ग का प्रमुख शिल्पी मंडन था। वास्तुशास्त्र के प्रकांड पंडित तथा शास्त्रप्रेणता मंडन महाराणा कुंभा का प्रधान सूत्रधार था। इनकी कृतियों में मत्स्यपुराण से लेकर अपराजितपृच्छा और हेमाद्रि तथा गोपाल के संकलनों का प्रभाव था। कुम्भा द्वारा अपनी पत्नी की स्मृति में 1443-1458 के बीच अरावली श्रृंखला की 13 चोटियों से घिरा जरगा पहाड़ी पर 3766 फीट की ऊंचाई पर यह किला निर्मित है। 21 जून, 2013 को इसे यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया। यह दुर्ग 36 किमी. लम्बी दीवार से घिरा हुआ है। इसकी संपूर्ण प्राचीर इतनी चौड़ी (7 मीटर) है कि चार घुड़सवार एक साथ चल सकती है। इसलिए इसे 'भारत की महान दीवार' भी कहते है। इसमें विशालतम द्वार व एक-दूसरे के अंदर सात परकोटे है। दुर्ग में कई महल (बादल महल) एवं जैन मंदिरों के अवशेष विद्यमान है।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Kumbhalgarh Durg Ke Pramukh Shilpi Kaun Tha