लसत सूर सायक-धनु-धारी में कौन सा अलंकार है?

(A) छेकानुप्रास अलंकार
(B) वृत्यनुप्रास अलंकार
(C) लाटानुप्रास अलंकार
(D) प्रतिवस्तूपमा अलंकार

Answer : प्रतिवस्तूपमा अलंकार
Explanation : लसत सूर सायक-धनु-धारी। रवि प्रताप सन सोहत भारी।। पंक्ति में प्रतिवस्तूपमा अलंकार होता है। यहां पहला उपमेय-वाक्य और दूसरा उपमान-वाक्य है और दोनों में 'शोभना' साधारणस धर्म 'लसत' और 'सोहत' इन दो शब्दों से कहा गया है, अत: प्र​तिवस्तूपमा है। प्रतिवस्तूपमा अलंकार की परिभाषा – जहां उपमेय और उपमान के पृथक्—पृथक् वाक्यों में एक ही समान धर्म दो भिन्न—भिन्न शब्दों द्वारा कहा जाय, वहां प्रतिवस्तूपमा अलंकार होता है। सामान्य हिंदी प्रश्न पत्र में काव्यलिंग अलंकार संबंधी प्रश्न पूछे जाते है। इसलिए यह प्रश्न आपके लिए कर्मचारी चयन आयोग, बीएड, आईएएस, सब इंस्पेक्टर, पीसीएस, बैंक भर्ती परीक्षा, समूह 'ग' आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के अलावा विभिन्न विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षाओं के लिए भी उपयोगी साबित होगें।
Tags : अलंकार, अलंकारिक शब्द, प्रतिवस्तूपमा अलंकार
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Lasat Soor Sayak Dhanu Dhari Main Alankar