नगरों का क्रमिक पतन किस काल की विशेषता थी?

(A) गुप्तकाल
(B) प्रतिहार युग
(C) राष्ट्रकूट
(D) सातवाहन युग

Answer : गुप्तकाल
Explanation : नगरों का क्रमिक पतन गुप्तकाल की एक महत्वपूर्ण विशेषता थी। गुप्तकाल के अंतिम चरण में व्यापार वाणिज्य का पतन होने लगा तथा आर्थिक गतिशीलता मंद पड़ने लगी। इसी समय सामंतवाद भी जड़ पकड़ने लगा। फलतः आर्थिक गतिविधियां के केंद्र रहे नगरों का पतन होने लगा। जैसा कि ह्वेन त्सांग एक सदी बाद प्रमुख गुप्तकालीन नगरों के उजाड़ होने की बात कही है।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन भारत प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Nagaron Ka Kramik Patan Kis Kaal Ki Visheshta Thi