नटराज की प्रसिद्ध कांस्य मूर्ति किस कला का उदाहरण है?

(A) चोल कला का
(B) गंधार कला का
(C) गुप्त कला का
(D) मौर्य कला का

Question Asked : UPPCS (Pre) GS History 2006
Answer : चोल कला का
Explanation : नटराज की प्रसिद्ध कांस्य मूर्ति चोल कला का उदाहरण है। त्रिचनापल्ली के तिरुभरंगकुलम से नटराज की विशाल कांस्य मूर्ति मिली है, जो इस समय दिल्ली संग्रहालय में है। चूंकि चोल वंश के अधिकांश शासक शैव थे, अतः इस काल में शैव मूर्तियों का खूब निर्माण हआ। चोलकालीन प्रसिद्ध मंदिरों में तन्जौर का वृहदेश्वर एवं गंगैकोण्डचोलपुरम का मंदिर प्रसिद्ध है।

दक्षिण भारत में चोल वंश की स्थापना 'विजयालय' ने की थी। महान चोल शासकों ने न केवल द्रविड़ स्थापत्य कला शैली को विकास के चरमोत्कर्ष पर पहुंचाया अपितु तक्षण कला व मूर्तिकला में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त की। चोलों के समय निर्मित धातु मूर्तियों में 'नटराज शिव' की कांस्य प्रतिमा को विश्व के श्रेष्ठतम् मूर्ति शिल्प में से एक माना जाता है। चोल शासक राजराज प्रथम ने तंजौर में राजराजेश्वर अथवा वृहदीश्वर मंदिर का था तथा उसके पुत्र राजेंद्र प्रथम ने गंगैकोण्डचोलपुरम् में वृहदीश्वर मंदिर का तथा उसके उसके पुत्र राजेंद्र प्रथम ने गंगैकोण्डचोलपुरम् में वृहदीश्वर मंदिर का निर्माण कराया। वृहदीश्वर मंदिर की दीवारों पर अजंता की चित्रकला से प्रभावित चित्रकारी की गई है।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Natraj Ki Prasidh Kansya Murti Kis Kala Ka Udaharan Hai