नयी फारसी काव्य-शैली ‘सबक-ए-हिन्दी’ अथवा हिन्दुस्तानी शैली के जन्मदाता थे?

(A) जियाउद्दीन बरनी
(B) अफीफ
(C) इसामी
(D) अमीर खुसरो

Question Asked : [RAS/RTS (Pre) GS 1999]
Answer : अमीर खुसरो
'सबक-ए-हिंदी' अथवा हिंदुस्तानी शैली के जन्मदाता अमीर खुसरो को माना जाता है। अमीर खुसरो अलाउद्दीन के दरबारी कवि थे। 'सबक-ए-हिंदी' का अर्थ हिंदुस्तान की शैली है। अमीर खुसरो प्रसिद्ध सूफीसंत निजामुद्दीन औलिया के शिष्य थे। बतादें कि इस प्रकार के प्राचीन एवं मध्यकालीन भारतीय इतिहास से सं​बंधित प्रश्न अक्सर पूछे जाते है। जिसके उत्तरों भी कभी नहीं बदलते है। इसलिए अगर आप संघ एवं राज्य सिविल सेवा या राज्यस्तरीय किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे है, तो इन्हें अच्छी तरह से याद कर लें। ताकि गलती की कोई संभावना न रहें।
Tags : इतिहास प्रश्नोत्तरी, प्राचीन काल भारत, मध्यकालीन भारत
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Nayi Farsi Kavya Shaili Sabk E Hindi Athava Hindustani Shaili Ke Janmadata The