निर्धनता का दुष्चक्र की अवधारणा किससे संबंधित है?

(A) रोजगार
(B) पूंजी का अभाव
(C) गरीबी
(D) कर्ज

think
Correct Answer : पूंजी का अभाव
Explanation : निर्धनता का दुष्चक्र की अवधारणा पूंजी का अभाव से संबंधित है। प्रो. रागनर नर्क्से के अनुसार, एक अल्पविकसित देश गरीबी के दुष्चक्र में फंसा होता है और यह दुष्चक्र अनेक शक्तियों का एक ऐसा घेरा होता है जो एक-दूसरे के साथ इस प्रकार प्रतिक्रिया करते हैं कि एक निर्धन सदैव निर्धन बना रहता है। एक देश की गरीबी ही उसके गरीबी का कारण है अर्थात् एक देश गरीब है क्योंकि वह गरीब है। प्रो. नर्क्से के अनुसार, निर्धनता के दुष्चक्र के विभिन्न कारकों में से सबसे प्रमुख कारक ‘पूंजी का अभाव’ है क्योंकि पूंजी के अभाव से निवेश कम होता है, जिससे उत्पादन, रोजगार एवं आय तीनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
Useful for Exams : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
नवीनतम करेंट अफेयर्ससामान्य ज्ञान से जुड़े हर प्रश्न उत्तर को पाने के लिए GKPU फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title : nirdhanta ka dushchakra ki avdharna kisse sambandhit hai
Tags : सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Always Ask Questions
Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *