पहेली को छत्तीसगढ़ी में क्या कहते हैं?

(A) लूडेंग
(B) जनेउता
(C) जनउला
(D) जीवात्मा

Answer : जनउला
Explanation : पहेली को छत्तीसगढ़ी में ‘जनउला' कहते हैं। जनउला का हिन्दी में अर्थ 'पूछना' होता है। जिसके जरिये मानव (मनखे) बुद्धि की तार्किकता की परीक्षा ली जाती है। जैसे– "बिना पंख के सुवना, उड़ि चलत अकास। रूप रंग इनके नहीं, मरै न भूख पियास।।" इस जनउला का हिंदी अर्थ होगा-बिना पंख के तोता चलकर आकाश में उड़ा है। इसका रूप रंग नहीं है तथा ये भूख-प्यास से नहीं मरता है। इस पहेली का सही उत्तर 'आत्मा/जीवात्मा' होगा, क्योंकि आत्मा/जीवात्मा के पंख नहीं होते हैं, फिर भी वह एक शरीर को छोड़ दूसरे शरीर में प्रवेश करती है। उसका कोई रंग-रूप भी नहीं है और वह भूख-प्यास से मरती भी नहीं है।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Paheli Ko Chhattisagadhi Me Kya Kehte Hain