पशुओं में गलघोटू बीमारी का क्या कारण है?

(A) जीवाणु
(B) विषाणु
(C) फफूंदी
(D) प्रोटोजोआ

Question Asked : केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2019 (पेपर-II)
Answer : जीवाणु
Explanation : पशुओं में गलघोटू बीमारी का कारण जीवाणु (बैक्टीरिया) है। उस जीवाणु का नाम है–'पस्तुरिल्ला मल्टोसीदा'।गलघोटू (Hemorrhagic Septicemia-हैमोरेजिक सेप्टीसीमिया) एक घातक संक्रामक बीमारी है। गलघोटू रोग में अचानक से तेज़ बुखार हो जाता है। ठण्ड लगने लगती है। अत्यधिक लार का बहना, आँखों में सूजन आना, गले में सूजन होने से सास लेते समय दर्द होता है। पशु खाना पीना बंद कर देता और पशु सुस्त हो जाता है। यह रोग छह से दो वर्ष की आयु के जानवरो में होती है। जो मुख्यत: गाय भैंस में मानसून के मौसम के दौरान होती है साधारण भाषा में गलघोटू रोग घुरखा, घोटुआ, डहका आदि के नाम से जाना जाता है। यह रोग भेड़, बकरियों एवं सूअरों को प्रभावित करता है। गलघोटू रोग के कारण पशुओ की मृत्यु दर अधिक होने के कारण पशुपालको को अत्याधिक नुकसान का सामना करना पड़ता है।
Tags : कृषि प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Pashuon Me Galghotu Bimari Ka Kya Karan Hai