रवींद्रनाथ टैगोर ने अपनी ‘नाइटहुड’ उपाधि किस कारण त्याग दी?

(A) सविनय अवज्ञा आंदोजलन का क्रूर दमन
(B) भगत सिं​ह को फांसी दिया जाना
(C) जलियांवाला बाग हत्याकांड
(D) चौरी चौरा की घटना

Question Asked : 65th BPSC Prelims Exam 2019
Answer : जलियांवाला बाग हत्याकांड
Explanation : रवींद्रनाथ टैगोर ने अपनी 'नाइटहुड' उपाधि जलियांवाला बाग हत्याकांड के विरोध के कारण त्याग दी। वर्ष 1915 में रवींद्रनाथ टैगोर को ब्रिटिश सरकार ने 'नाइटहुड' अर्थात् 'सर' की उपाधि से अलंकृत किया, लेकिन वर्ष 1919 में हुए जलियांवाला बाग हत्याकांड में विरोधस्वरूप उन्होंने 'नाइटहुड' की उपाधि ब्रिटिश सरकार को वापिस लौटा दी। 13 अप्रैल 1919 को बैसाखी के पर्व पर पंजाब में अमृतसर के जलियांवाला बाग में इस दिन ब्रिगेडियर जनरल रेजीनॉल्ड डायर के नेतृत्व में अंग्रेजी फौज ने गोलियां चला के निहत्थे, शांत बूढ़ों, महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों लोगों को मार डाला था और हजारों लोगों को घायल कर दिया था। इस घटना ने भारत के इतिहास की धारा को बदल कर रख दिया। अंग्रेज अफसर ब्रिगेडियर जनरल डायर के आदेश पर 10 मिनट तक 1650 राउंड गोलिया बरसाई गईं थी, दीवारों पर गोलियों के निशान आज भी मौजूद हैं।
Tags : आधुनिक इतिहास, बिहार, बिहार प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Rabindranath Tagore Ne Apni Knighthood Upadhi Kis Karan Tyag Di Thi