रामानुजाचार्य ने किस दर्शन का प्रतिपादन किया?

(A) अद्वैतवाद
(B) शुद्धाद्वैतवाद
(C) विशिष्टाद्वैतवाद
(D) द्वैतवाद

Answer : विशिष्टाद्वैतवाद
Explanation : रामानुजाचार्य ने विशिष्टाद्वैतवाद दर्शन का प्रतिपादन किया। रामानुजाचार्य के अनुसार-जगत् मिथ्या नहीं, वास्तविक है। जगत शरीर है ब्रह्म शरीरी, ब्रह्म जीव व जगत को धारण करता हुआ उसका नियम करता है। चूंकि रामानुज का ब्रह्म विशेषण से युक्त विशिष्ट है इसलिए उनका दर्शन 'विशिष्टाद्वैत' है। 'अद्वैतवाद' के प्रवर्तक शंकराचार्य, 'शुद्धाद्वैतावाद' के वल्लभाचार्य और द्वैतवाद के प्रवर्तक मध्वाचार्य हैं।
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Ramanujacharya Ne Kis Darshan Ka Pratipadan Kiya