सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला शासक कौन था?

(A) अवध का नवाब
(B) हैदराबाद का निजाम
(C) पेशवा बाजीराव द्वितीय
(D) ट्रावनकोर का राजा

Answer : हैदराबाद का निजाम
Explanation : सहायक संधि को स्वीकार करने वाला पहला शासक हैदराबाद का निज़ाम था। दरअसल निजाम पहले से ही अंग्रेजो का मित्र था लेकिन खुर्दा के युद्ध के बाद उसका अंग्रेजो पर से विश्वास उठ गया। लेकिन वेलेजली ने टीपू के भय दिखाकर निजाम के मंत्री मीर आलम को अपने पक्ष में किया और निजाम ने सहायक संधि को 1798 ई. में स्वीकार कर लिया। जिसके बाद हैदराबाद की सुरक्षा के लिए 6 सैन्य बटालियन रखी गई थी और इसकी रखरखाव के लिए 24 लाख रुपयें अंग्रेजो को देना तय किया गया। 1798 ई. में निज़ाम के फ्रांसीसी संबंधों को समाप्त कर दिया और ब्रिटिश अनुमति के बिना वे मराठों से कोई संधि नहीं कर सकते थे। सहायक संधि स्वीकार करने वाला दूसरा राज्य मैसूर था जिसने 1799 ई. में इस संधि पर हस्ताक्षर किये। 1801 ई. में वेलेज़ली ने अवध के नवाब को इस संधि पर हस्ताक्षर करने के लिया बाध्य किया।
Tags : आधुनिक इतिहास, इतिहास प्रश्नोत्तरी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Sahayak Sandhi Ko Sweekar Karne Wala Pahla Shasak Kaun Tha