सत्यमेव जयते नानृतम् का अर्थ

(A) देव भी निर्बल को दु:ख देता है।
(B) बन्धओं के मध्ये गरीब होकर रहना उचित नहीं है।
(C) मूर्खों के साथ स्वर्ग में रहना भी अच्छा नहीं है।
(D) सत्य की सदा जय होती है, असत्य की नहीं।

Answer : सत्य की सदा जय होती है, असत्य की नहीं।
Explanation : सत्यमेव जयते नानृतम् का अर्थ सत्य की सदा जय होती है, असत्य की नहीं। यह संस्कृत की प्रसिद्ध कहावत है। सत्यमेव जयते नानृतम् श्लोक, सत्यमेव जयते नानृतम् मीनिंग इन हिंदी शब्दार्थ है सत्य की सदा जय होती है, असत्य की नहीं। संस्कृत के मुहावरे एवं संस्कृत लोकोक्तियाँ के अर्थ सामान्य हिंदी के पेपर में अक्सर पूछे जाते है। संस्कृत की एक प्रचलित कहावत यह भी है–
पय: पांन भुजनंगानां केवलं विषवद्र्धनम्।
अर्थ – सर्प को दूध पिलाना उसके विष को बढ़ाना है।
बुद्धे: फलमानग्रह:।
अर्थ – हठ न करना ही बुद्धिमानी है।
Tags : संस्कृत मुहावरे, संस्कृत लोकोक्तियाँ
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Satyamev Jayate Nanritam