तैरने के तालाब मे तैरने से मनुष्य की त्वचा जल जाती है?

(A) अवरक्त किरण के कारण
(B) क्लोरीन के कारण
(C) ऊष्मा के कारण
(D) पराबैंगनी किरण के कारण

Answer : क्लोरीन के कारण
Explanation : तैरने के तालाब में तैरने से मनुष्य की त्वचा क्लोरीन के कारण जल जाती है। क्लोरीन एक अत्यन्त क्रियाशील गैस है। संयुक्त अवस्था में यह साधारण नमक में पायी जाती है। शुष्क एवं बुझे चुने में क्लोरीन गैस प्रवाहित करने पर विरंजकचूर्ण का निर्माण होता है। यह गैस कीटाणुनाशक के रूप में तथा आक्सीकरण के रूप में प्रयोग की जाती है। ओजोन गैस सूर्य से आने वाली पराबैगनी किरणों को पृथ्वी से आने से रोकती है। उष्मा एक प्रकार की ऊर्जा है, जो दो वस्तुओं के बीच उनके तापान्तरण के कारण एक वस्तु से दूसरी वस्तु को स्थानान्तरित होती है। स्थानान्तरण के समय ही ऊर्जा ऊष्मा कहलाती है। अवरक्त किरण उष्मीय विकिरण है। ये जिस वस्तु पर पड़ती है, उसका ताप बढ़ जाता है। इसका प्रयोग कुहरे में फोटोग्राफी करने एवं रोगियों की सेकाई करने में किया जाता है।
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Tairne Ke Talab Me Tairne Se Manushya Ki Tvacha Jal Jati Hai