‘तुम्हारा अधिकार कर्म पर है, फल की प्राप्ति पर नहीं’ किस ग्रंथ में कहा गया है?

(A) अष्टाध्यायी
(B) महाभाष्य
(C) गीता
(D) महाभारत

Answer : गीता
Explanation : ‘तुम्हारा अधिकार कर्म पर है, फल की प्राप्ति पर नहीं’ यह गीता ग्रंथ में कहा गया है। गीता में यह कहा गया है कि 'कर्मण्येवाधिकारस्तु, मा फलेषु कदाचन' अर्थात् कर्म पर ही अधिकार है, कर्म फल पर नहीं। गीता महाभारत के भीष्मपर्व का अंश है।
Tags : आधुनिक इतिहास, इतिहास प्रश्नोत्तरी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2022 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Tumhara Adhikar Karm Par Hai Phal Ki Prapti Par Nahi Kis Granth Me Kaha Gaya Hai