उत्तराखंड की सबसे पुरानी जनजाति कौन सी है?

(A) राजी
(B) जौनसारी
(C) थारू
(D) भोटिया

Answer : जौनसारी
Explanation : उत्तराखंड की सबसे पुरानी जनजाति जौनसारी है। जौनसारी जनजाति उत्तराखंड के कालसी, चकराता, त्योणी, लाखामंडल, जौनसार बाबर (देहरादून), जौनपुर (टिहरी गढ़वाल), राबेन (उत्तरकाशी) तथा परगनेकाना आदि के ऊंचे पहाड़ों, गहरी घाटियों एवं आकर्षित करने वाली चोटियों से घिरे क्षेत्र में निवास करती है। जौनसारी जनजाति तीन वर्गों में बंटी है। ये हैंकृ खसास, कारीगर और हरिजन खसास। खसास में ब्राह्मण व राजपूत, कारीगर में लोहार, सुनार, बढ़ई, बाजगी, ओड़ और हरिजन खसास वर्ग में डोम, कोड, कोल्टा, कोली व मोची आदि सम्मिलित हैं। खसास जौनसारी गोरे और लम्बे कद के होते हैं, कारीगर मध्य और सांवले तथा हरिजन खसास काले रंग के व छोटे कद के होते हैं। जौनसारी जनजाति में खसास जौनसारी कृषक हैं। इनके पास जमीन है तथा ये सम्पन्न लोग हैं। इनमें ब्राह्मण और राजपूत मुख्य हैं।
Useful for : UPSC, State PSC, SSC, Railway, NTSE, TET, BEd, Sub-inspector Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम और YouTube चैनल पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Uttarakhand Ki Sabse Purani Janjati Konsi Hai