वह शर इधर गांडीव धनुष से भिन्न जैसे ही हुआ में कौन सा अलंकार है?

(A) अतिशयोक्ति अलंकार
(B) यमक अलंकार
(C) श्लेष अलंकार
(D) मानवीकरण अलंकार

Answer : अतिशयोक्ति अलंकार
Explanation : वह शर इधर गांडीव धनुष से भिन्न जैसे ही हुआ में अतिशयोक्ति अलंकार है। जहां किसी वस्तु का इतना बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया जाए कि सामान्य लोक सीमा का उल्लंघन हो जाए वहाँ अतिशयोक्ति अलंकार होता है। यानि जब किसी व्यक्ति या वस्तु का वर्णन करने में लोक समाज की सीमा या मर्यादा टूट जाये उसे अतिश्योक्ति अलंकार कहते हैं।
Tags : अलंकार, मानवीकरण अलंकार
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
Related Questions
नवीनतम करेंट अफेयर्सजीके 2021 के लिए GKPU फ़ेसबुक पेज को Like करें
Web Title : Vah Shar Idhar Gandiv Dhanush Se Bhinn Jaise Hi Hua Me Alankar