क्या आप जानते हैं

निमोनिया क्या है | What is Pneumonia in Hindi

निमोनिया (Pneumonia) रोग डिप्लोकोकस न्यूमोनी (Diplococcus pneumonia) नामक जीवाणु से होता है। रोगी को तेज बुखार तथा सांस लेने में कठिनाई होती है। फेफड़ों में सूजन आ जाती है। इस रोग से ग्रसित रोगी को ठंड से बचाते हैं तथा एन्टीबायोटिक्स औषधियाँ प्रयोग करते हैं। निमोनिया अगर गंभीर रूप धारण कर ले, तो जानलेवा हो […]

प्लेग मीनिंग इन हिंदी | Plague Meaning in Hindi

प्लेग (Plague) एक छुआ-छूत की बीमारी है जो बैसिलस पेस्टिस (Bacillus pestis) नामक जीवाणु द्वारा फैलती है। इसका संक्रमण चूहों पर पाये जाने वाले पिस्सुओं से होता है, क्योंकि पिस्सुओं (Fleas) के शरीर में प्लेग का बैक्टीरिया रहता है। जेनोप्सला केओपिस (Xanopsylla cheopis) प्लेग का सबसे भयानक पिस्सू है क्योंकि यह आसानी से चूहे से […]

प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है?

महात्‍मा गांधी 9 जनवरी 1915 को दक्षिण अफ्रीका से स्‍वदेश वापस लौटे थे। महात्‍मा गांधी को सबसे बड़ा प्रवासी माना जाता है जिन्‍होंने न सिर्फ भारत के स्‍वतंत्रता संग्राम का नेतृत्‍व किया बल्‍कि भारतीयों के जीवन को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया। इसलिए 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय द‍िवस (Pravasi Bhartiya Divas) मनाया […]

आईपीसी की धारा 207 क्या है- IPC Section 207 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 207 के अनुसार, सम्पत्ति पर उसके समपहरण किये जाने में या निष्पादन में अभिगृहीत किये जाने से निवारित करने के लिये कपटपूर्वक दावा – जो कोई किसी सम्पत्ति को, या उसमें के किसी हित को, यह जानते हुए कि ऐसी किसी सम्पत्ति या हित पर उसका कोई अधिकार या […]

आईपीसी की धारा 201 क्या है- IPC Section 201 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 201 के अनुसार, अपराध के साक्ष्य का विलोपन, या अपराधी को प्रतिच्छादित करने के लिए मिथ्या इत्तिला देना – जो कोई यह जानते हुये, या इस विश्वास करने का कारण रखते हुये कि कोई अपराध किया गया है, उस अपराध के किये जाने के किसी साक्ष्य का विलोप, इस […]

आईपीसी की धारा 198 क्या है- IPC Section 198 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 198 के अनुसार, प्रमाण–पत्र को जिसका मिथ्या होना ज्ञात है, सच्चे के रूप में काम में लाना – जो कोई किसी ऐसे प्रमाण–पत्र को यह जानते हुये कि वह किसी तात्विक बात के संबंध में मिथ्या है, सच्चे प्रमाण–पत्र के रूप में भ्रष्टातापूर्वक उपयोग में लाएगा, या उपयोग में […]

आईपीसी की धारा 188 क्या है- IPC Section 188 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188 के अनुसार, लोक सेवक द्वारा सम्यक् रूप से प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा – जो कोई यह जानते हुए कि वह ऐसे लोक सेवक द्वारा प्रख्यापित किसी आदेश से, जो ऐसे आदेश को प्रख्यापित करने के लिये विधिपूर्वक सशक्त है, कोई कार्य करने से विरत रहने के लिये या […]

आईपीसी की धारा 170 क्या है- IPC Section 170 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 170 के अनुसार, लोक सेवक का प्रतिरूपण – जो कोई किसी विशिष्ट पद को लोक सेवक के नाते धारण करने का अपदेश यह जानते हुए करेगा कि वह ऐसा पद धारण नहीं करता है या ऐसा पद धारण करने वाले किसी अन्य व्यक्ति का छद्म प्रतिरूपण करेगा और ऐसे […]

आईपीसी की धारा 156 क्या है- IPC Section 156 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 156 के अनुसार, उस स्वामी या अधिभोगी के अभिकर्ता का दायित्व, जिसके फायदे के लिए बल्वा किया जाता है – जब कभी ऐसे व्यक्ति के फायदे के लिए या ऐसे व्यक्ति की ओर बल्वा किया जाए, जो किसी भूमि का, जिसके विषय में ऐसा बल्वा हो, स्वामी हो या […]

आईपीसी की धारा 155 क्या है- IPC Section 155 in Hindi

भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 155 के अनुसार, उस व्यक्ति का दायित्व, जिसके फायदे के लिए बल्वा किया जाता है – जब कभी किसी ऐसे व्यक्ति के फायदे के लिए या उसकी ओर से बल्वा किया जाए, जो किसी भूमि का, जिसके विषय में ऐसा बल्वा हो, स्वामी या अधिभोगी हो या जो ऐसी […]