एशियाई खेल का मोटो क्या है?

(A) हमेशा आगे की ओर
(B) सद्भाव और प्रेम
(C) भारतीय लोगों को खेलों के प्रति जगाना
(D) खेलों को बढ़ावा

asian-games
Answer : हमेशा आगे की ओर (Always forward)
एशियाई खेल का मोटो 'हमेशा आगे की ओर' है। एशियाई खेल के प्रणेता प्रोफेसर गुरुदत्त सोंधी का उद्देश्य खेलों के माध्यम से एशियाई देशों को एक साथ करना था जिससे सद्भाव और प्रेम को बढ़ावा मिले। प्रारम्भ में इस खेल का नाम ‘एशियाटिक खेल’ रखा गया था। बाद में पं. जवाहरलाल नेहरू के सुझाव पर इस खेल का नाम ‘एशियाई खेल’ रखा गया। प्रथम एशियाई खेल का आयोजन 4 मार्च, 1951 को नई दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में हुआ था।
Tags : खेल जगत प्रश्नोत्तरी, खेल प्रश्नोत्तरी
Useful for : UPSC, State PSC, IBPS, SSC, Railway, NDA, Police Exams
करेंट अफेयर्सजीके 2021 अपडेट के लिए टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करें
Related Questions
Web Title : Asiai Khel Ke Moto Kya Hai